फिर धमाका करने को तैयार… ‘हंस झन पगली…’ प्रभात, रायपुर में 25 दिसंबर को होगी प्रदर्शित…

CGFilm – छत्तीसगढ़ी फिल्मों के नामचीन निर्माता और निर्देशक सतीश जैन की फिल्म हंस झन पगली एक बार फिर धमाका करने को तैयार है। बताया जा रहा है कि ये फिल्म 25 दिसंबर 2020 को आपके नजदीकी सिनेमाघरों में जल्द ही प्रदर्शित होगी। फिलहाल ये फिल्म किन शहरों और सिनेमाघरों में रिलीज होगी, इसके बारे में जानकारी नहीं है। लेकिन इसके प्रदर्शन किया जाएगा। आपको बता दें कि पिछले साल 14 जून 2019 को ये फिल्म राजधानी के श्याम टॉकीज सहित छत्तीसगढ़ के कई सिनेमाघरों में प्रदर्शित हुई थी। हंस झन पगली ने अकेले राजधानी रायपुर में ही 95 दिनों तक सिनेमा हाल में लगातार चलती रही, वहीं छत्तीसगढ़ के कुछेक जिलों में इसने 100 दिन का रिकॉर्ड भी बनाया था।

हंस झन पगली एक ऐसी फिल्म बन गई थी, जिसकी वजह से टॉकीज के बाहर हर शो में ट्रैफिक जाम होता रहा है और हर शो हाउसफुल चला है। इससे पहले भी कहा जा रहा था कि छत्तीसगढ़ में एक बार फिर थियेटर खुलते ही दर्शक अपनी पसंदीदा फिल्म हंस झन पगली फंस जबे को देख सकेंगे। ये फिल्म कौन-कौन सी टॉकीजों में लगेगी फिलहाल इसकी घोषणा नहीं हो पाई है, लेकिन इस फिल्म के एक बार फिर प्रदर्शन को लेकर चर्चाएं जोरों पर हैं। हंस झन पगली फंस जबे फिल्म सबरी फिल्म प्रोडक्शन के बैनर तले बनी है। इसने कई रिकॉर्ड बनाए हैं। इसमें सुपर स्टार मन कुरैशी, अनिकृति चौहान, क्रांति दीक्षित, विक्रम राज, स्व. आशीष सेंदेरे, उपासना वैष्णव, पुष्पेंद्र सिंग, रवि साहू, हेमलाल कौशल, अजय सहाय, ललित उपाध्याय जैसे कई बड़े दिग्गज कलाकार हैं। इसके निर्माता छोटेलाल साहू और निर्देशक सतीश जैन हैं।

हंस झन पगली के एक साल पूरे होने पर Cgfilm.in ने निर्देशक सतीश जैन से जून 2020 में लंबी चर्चा की थी। तब सतीश जैन ने कहा था- फिल्म को 14 जून को एक साल पूरे हो गए हैं। फिल्म को लेकर छत्तीसगढ़ के दर्शकों और कलाकारों की बहुत सारी बधाईयां आई हैं। फिल्म के एक साल पूरी होने की खुशी है, लेकिन कोरोना को लेकर दुख भी है। क्योंकि छत्तीसगढ़ में टॉकीजें बंद हो गई हैं, इसके चलते बहुत सारी बड़ी-बड़ी फिल्में रिलीज नहीं हो पा रही हैं। बहुत सारी फिल्मों की शूटिंग आधी में ही अटकी हुई है। इसके साथ ही छत्तीसगढ़ के निर्माता और निर्देशक भी संशय में है कि क्या होगा, कैसे होगा, कब लॉकडाउन खुलेगा और कब शूटिंग शुरू होगी? फिलहाल तो सब यही सोच रहे हैं, कब छत्तीसगढ़ में स्थितियां सामान्य हो।