नवा बिहान : चुनौतीपूर्ण था कलाकारों का चयन : आशीष सुरेंद्र गंजीर

आशीष सुरेंद्र गंजीर के निर्देशन में बनी 11 नवंबर को रिलीज होने वाली छत्तीसगढ़ी फिल्म नवा बिहान छत्तीसगढ़  के नक्सल समस्या जैसी गंभीर मुद्दे व रोमांटिक परिवारिक ड्रामा पर बनी है। उन्होंने सीजीफिल्म.इन से चर्चा में बताया कि इस फिल्म का निर्माण बस्तर के बीहड़ इलाकों में किया गया, जिसमें छत्तीसगढ़ी फिल्म इंडस्ट्री के नामी कलाकारों ने सुदूर इलाकों में शूटिंग कर फिल्म निर्माण पर विशेष सहयोग किया।

एक सवाल के जवाब में आशीष कहते हैं कि फिल्म दर्शकों को जरूर पसंद आएगी, क्योंकि इसकी कहानी, संवाद, पटकथा सब कुछ बहुत ही अच्छा है। इसके अलावा फिल्म में आपको कई नए कलाकार भी दिखेंगे, जो अपनी अदाकारी से निश्चित ही दर्शकों को अपनी ओर खिंचेंगे। साथ ही छत्तीसगढ़ सरकार की जनकल्याणकारी गोधन न्याय योजना के बारे में भी बताया गया है कि कैसे गोबर बेचकर लोग अपनी आर्थिक स्थिति को मजबूत कर रहे हैं। इसी की एक झलक आपको  फिल्म नवा बिहान में नजर आने वाली है। वैसे तो अब तक आपने में हॉलीवुड में स्पायडरमैन, आयरनमैन, बॉलीवुड में पैडमैन जैसे किरदारों को देखा है। लेकिन अब छॉलीवुड में आप बिल्कुल एक नए किरदार गोबरमैन को देखेंगे।

एक अन्य सवाल के जवाब में आशीष कहते हैं कि फिल्म के कलाकारों का चयन काफी महत्वपूर्ण होता है। इसके लिए मुझे अच्छी-खासी मेहनत करनी पड़ी। और अंतत: मुझे अपने फिल्म के लिए वैसे ही किरदार मिले जो फिल्म की कहानी के अनुसार बिल्कुल फिट हैं।

कलाकार
फिल्म में मुख्य कलाकार के रुप में आकाश सोनी, इशिका यादव, रवि साहू, उपासना वैष्णव, ललित उपाध्याय, विक्रांत नरसिंह, योगिता मदारिया,श्रेया महंत,प्रांजल सिंह राजपुत,नरेंद्र काबरा, सुमित्रा साहू, शमशीर शिवानी संतोष निषाद, हेमंत निषाद, भानुमति कोसरे,राजेश बोनिक ने जैसे मंझे हुए कलाकारो ने अपनी अदाकारी का जौहर दिखाया है।
कहानी, पटकथा व संवाद
फिल्म की कहानी सोनू ठाकुर की है। पटकथा और संवाद राज बंजारे ने किया है। साथ छायांकन में प्रमोद के नायक कैंमरे पे अपना जादू बिखेरा है।
गीत व संगीत
फिल्म में संगीत निर्देशन किया सागर बोस ने। गीतकार रैपर अंकित, देवेश अमोरा, भुनेश्वर यादव है। नित्य निर्देशन स्वर्गीय निशांत उपाध्याय, राकेश यादव संजू टांडी ने संभाला है। फिल्म के निर्माता निर्देशक ने बताया कि फिल्म नवा बिहान मिक्सिंग किया है जितेंद्रम  देवांगन आलाप स्टूडियो ने  एवं फि़ल्म को एडिट किया है सतीश देवांगन ने  छत्तीसगढ़ की पारंपरिक कल्चर के साथ साथ सुमधूर संगीत से सजी फिल्म 11 नवंबर से प्रदेश के  नजदीकी सिनेमाघरों में प्रदर्शित होने जा रही है।