Le chal apan duwari

फिल्म समीक्षा : ले चलहुं अपन दुवारी

एकान्त चौहान (CGFilm.in)। आज रिलीज हुई छत्तीसगढ़ी फिल्म ले चलहुं अपन दुवारी में वाकई युवाओं ने दम दिखाया है और एक बेहतरीन फिल्म बन गई। खासकर, क्लाईमैक्स आपका दिल छू जाएगा। वैसे एक फिल्म तभी प्रभावशाली होती है, जब उसकी शुरूआत अच्छी हो, कहानी दमदार हो और क्लाईमैक्स ऐसा हो, जो फिल्म देखकर निकल रहे दर्शकों को लंबे समय तक याद रहे। ले चलहुं अपन दुवारी… फिल्म इसमें खरी उतरती है। इस फिल्म की खासियत है कि इस फिल्म को पूरा युवा टीम ने मिलकर बनाई है। वहीं पहली बार किसी महिला आरुषि बागेश्वर ने डीओपी का कार्य किया है। फिल्म की सूटिंग छत्तीसगढ़ के विभिन्न रोमांटिक एवं दर्शनीय स्थानों पर की गई है। फिल्म के लेखक, डायरेक्टर एवं डीओपी सभी पच्चीस से तीस साल के बीच के युवा हैं। इस फिल्म में देशप्रेम के साथ साथ, इमोशन एवं कॉमेडी का भी भरपूर समावेश किया गया है!

कहानी
वैसे तो फिल्म की कहानी दो गांवों के दुश्मनी के बीच धीरे-धीरे आगे बढ़ती है। इस बीच सेना का जवान कार्तिक अपनी छुट्टियां बिताने गांव आता है। और कार्तिक (शील वर्मा) और निशा (पूजा शर्मा) जो इन्हीं गांवों के रहने वाले उनकी प्रेम कहानी भी शुरू हो जाती है। जाहिर है जब गांव वालों में दुश्मनी हो तो प्यार कैसे आगे बढ़ेगा। इसलिए कार्तिक और निशा छुप-छुप कर ही मिलते हैं। लेकिन हम लाख छुपाए प्यार मगर दुनिया को पता चल जाएगा… की तर्ज पर इनकी लव स्टोरी भी सबके सामने आ जाती है। फिर शुरू होता है, कार्तिक का दोनों गांववालों को मिलाने का सिलसिला। इस बीच का फिल्म हर किरदार अपने अंदाज से आपको हंसाते जाएगा है। एक वक्त बाद कार्तिक के समझाने पर दोनों गांववालों एक बार फिर एक जाते हैं। और कार्तिक और निशा की शादी की तैयारियां शुरू हो जाती है। लेकिन…इसी बीच कहानी कुछ और ही मोड़ ले लेती है और फिल्म का क्लाईमैक्स आपका दिल छू लेगा। ये क्लाईमैक्स क्या है…यह देखने आपको अपने नजदीकी सिनेमाघरों में जाना होगा।

फिल्म की खासियत
इस फिल्म की खासियत है कि इस फिल्म को पूरा युवा टीम ने मिलकर बनाई है। फिल्म की शूटिंग छत्तीसगढ़ के विभिन्न रोमांटिक एवं दर्शनीय स्थानों पर की गई है। फिल्म के लेखक, डायरेक्टर एवं डीओपी सभी पच्चीस से तीस साल के बीच के युवा हैं। पूरी टेक्निकल टीम मुम्बई से छत्तीसगढ़ आयी थी। फिल्म मेकिंग की पूरी टीम नव युवाओं से प्रेरित है और इन लोगों ने भरपूर जज्बे ,उमंग ,उत्साह के साथ अपने काम को बखूबी से अंजाम दिया है।

प्रमुख कलाकार
निर्देशक मृत्युंजय सिंह, निर्माता निर्माता देवनारायण साहू और उत्तरा कुमार साहू, लेखक द कपिल शर्मा शो के लेखक कौस्टन साहू, फिल्म की प्रमुख नायिका मोहिनी फेम पूजा शर्मा, नायक शील वर्मा (प्रसिद्ध टीवी सीरियल नागिन 6 और ससुराल सिमर का फेम), साहेबदास मानिकपुरी, अक्षय वर्मा, विजय मिश्र, नरेंद्र दावड़ा, जयराम भगवानी, सुमित्रा साहू, मनीषा खोब्रागडे ने फिल्म में अहम किरदार निभाया है।

संगीत
फिल्म का संगीत दिये है मोहिनी और प्रीत के डोरी फेम मोनिका वर्मा और तुषान्त कुमार ने दिया है। वहीं इस फिल्म के गानों को अपना मधुर आवाज दिये है मोनिका वर्मा, तुषान्त कुमार, तुषान्त सोलंकी व सिद्धान्त निराला ने। फि़ल्म को एडिट संटू ने किया है तो एक्सिक्यूटिव प्रोडक्शन की जिम्मेदारी अब्दुल वाहिद ने निभाई है।

अंत में,
आपने अब तक कई छॉलीवुड फिल्में देखी होंगी। लेकिन यह फिल्म सबसे अलग है। खासकर, इसका क्लाईमैक्स आपका दिल छू जाएगा। वहीं इस फिल्म को युवाओं की टीम ने मिलकर बनाया है। इसलिए यह फिल्म आम फिल्मों से हटकर है। फिल्म का हर सीन यादगार है। फिल्म की प्रमुख नायिका मोहिनी फेम पूजा शर्मा, नायक शील वर्मा (प्रसिद्ध टीवी सीरियल नागिन 6 और ससुराल सिमर का फेम) अपनी छाप छोडऩे में सफल रहे हैं। यह फिल्म देशप्रेम के साथ साथ, इमोशन एवं कॉमेडी का भी भरपूर समावेश है।