फिल्म समीक्षा : रंग रंगीले

CGFilm.in | रियांश फिल्म की प्रस्तुति एक और छत्तीसगढ़ी फिल्म रंग रंगीले आज राजधानी के राज टॉकीज में रिलीज हुई। फिल्म में आपको पूरा एक कॉम्बो पैक देखने को मिलेगा। यानी रोमांस, कॉमेडी, एक्शन और सस्पेंस। नवोदित कलाकार खगेश जांगड़े सारंगगढिय़ा और छॉलीवुड अभिनेत्री मुस्कान साहू की जोड़ी की यह फिल्म पूर्णत: ग्रामीण परिवेश को रेखांकित करती है। तेजी के साथ विकसित हो रहे गांवों में लाचार मां से लेकर मेहनतकश युवा तक की कहानी पिरोई गई है। फिल्म के गाने तो आपको बहुत ही पसंद आएंगे। खासकर गानों के साथ संगीतकार सूरज महानंद ने जो धुन तैयार की है, वो काबिले तारीफ है। कहानी फिल्म की कहानी नायक-नायिका के प्यार और तकरार के साथ शुरू होती है।

आखिर क्या है रंग रंगीले का ‘राज’?

नायक (खगेश) जहां गांव का एक मेहनतकश युवा है। जो अन्याय और अत्याचार के खिलाफ लगातार आवाज उठाते रहता है, वहीं नायिका (मुस्कान) गांव केे ठाकुर (डॉ. अजय सहाय) की बेटी है। उनका ये रिश्ता ठाकुर के छोटे भाई को बिल्कुल भी रास नहीं आता है। इस बीच गांव में एक सनसनीखेज वारदात हो जाती है और फिल्म की कहानी फिर इसी मिस्ट्री को सुलझाने की ओर आगे बढ़ती जाती है। तो क्या है फिल्म रंग रंगीले का राज? ये जानने आपको थियेटर तक तो जाना ही होगा।कॉमेडी की बात करें तो जहां हेमलाल कौशल जैसे सिद्धहस्त कॉमेडियन होंगे, वहां हंसी के फ़व्वारे तो छूटेंगे ही। फिल्म में हेमलाल ने हर सीन पर दर्शकों को खूब हंसाया है। इससे पहले उनकी लव लेटर फिल्म भी जून महीने में ही रिलीज हुई थी, जिसमें उन्होंने गजनी बनकर खूब हंसाया था।

फिल्म के गाने:

फिल्म के सभी गाने काफी कर्णप्रिय है। जिसे दर्शकों ने काफी पसंद किया। गानों को अनुराग शर्मा, महक रात्रे ने अपनी आवाज दी है।संगीत पक्ष की बात करें तो जहां सूरज महानंद जैसे दक्ष संगीतकार होंगे, वहां संगीत तो शानदार बनेगा ही। हर गानों में संगीत एकदम फिट है।अंत में फिल्म में डेब्यू कर रहे खगेश जांगड़े सारंगगढिय़ा ने अपने किरदार को लेकर काफी मेहनत की है। वहीं चंदन दीप ने कोरियोग्राफी में अपना हूनर दिखाया है। फिल्म की कहानी जहां-जहां थोड़ी कमजोर पड़ती जाती है, वहां-वहां गाने और कॉमेडी सीन इसे फिर पटरी पर लाने का काम करते हैं। अंत में, यदि आप छत्तीसगढ़ी फिल्म देखने के शौकीन हैं। तो एक बार ये फिल्म देख सकते हैं।

शूटिंग टीम :

फिल्म की शूटिंग सारंगढ़ के आसपास ही ज्यादातर हुई, इसलिए वहां के प्राकृतिक दृश्य भी आपको रोमांचित करेंगे।इस फिल्म के निर्देशक स्व.एजाज वारसी रहे हैं। सह निर्माता अनिल कुमार चौहान, कथा-पटकथा-संवाद नितेश लहरी, गीत महक रात्रे, संगीत सूरज महानंद, संपादन अशोक हियाल-पारस रजक, डीओपी राजू देवदास, कोरियोग्राफर चंदन दीप और स्वर अनुराग शर्मा, महक रात्रे के हैं। 

Connect with us:

Website: https://www.cgfilm.in
Facebook: https://www.facebook.com/CGFilm.in
Twitter: https://twitter.com/cg_film
Instagram: https://www.instagram.com/cgfilm.in
Youtube: http://bit.ly/CGFilmI