फिल्म समीक्षा : एक और लव स्टोरी

CGFilm (एकान्त चौहान) गायत्री राजेश केशरवानी प्रेजेन्ट्स और केशरवानी फिल्मस के बैनरतले बनी एक और लव स्टोरी आज पूरे छत्तीसगढ़ में प्रदर्शित हुई। फिल्म की कहानी और संवाद काफी अच्छे हैं, जो निश्चित ही दर्शकों को पसंद आएंगे। फिल्म की कहानी आम प्रेम कहानी की तरह ही है, पर मध्यान्तर के बाद इसमें कुछ मोड़ आता है, वो मोड़ क्या होता है और कैसे होता है, इसके लिए आपको शुरू से अंत तक फिल्म देखना ही पड़ेगा।

बहरहाल, हम आपको बता दें कि एक और लव स्टोरी बचपन की शैतानियों और शरारतों से शुरू होती है। आदित्य (मन कुरैशी) और नंदिनी (ट्विंकल) गांव में बचपन से ही साथ-साथ रहते और पढ़ते हैं। फिर उनकी पढ़ाई के लिए घरवाले उन्हें शहर भेजते हैं। यहीं से बचपन की मासूम मोहब्बत परवान चढ़ती है और फिर फिल्म में एक के बाद करैक्टर की एंट्री दर्शकों को बांध कर रखती है। कॉलेज की पढ़ाई के बाद होली का त्यौहार मनाने जब आदित्य और नंदिनी घर लौटते हैं, तो फिल्म में एक रोमांचक मोड़ आता है बिच्छू सिंह ठाकुर (पुष्पेन्द्र सिंह) की बदौलत। और हालात से मजबूर प्रेमी-प्रेमिका आखिरकार गांव छोडऩे को मजबूर हो जाते हैं। पहले बार जब आदित्य और नंदिनी घर छोड़ते हैं तो वो जरूरत थी और दूसरी बार मजबूरी।

तो मजबूरी जब उन्हें शहर की ओर धकेलती है तो शुरू होता है जिंदगी का वो कठोर सच, जिसका सामना हर जोड़े को करना पड़ता है। लेकिन शहर में फरिश्ते बनकर उन्हें एक निसंतान दम्पति मिलते हैं और एक बार फिर आदित्य और नंदिनी की प्रेम कहानी पूरे रफ्तार से दौडऩे लगती है। लेकिन फिर एक बाहरवाली की एंट्री फिल्म की कहानी में कुछ और मोड़ ले आती है, वो क्या है, इसके लिए आपको थियेटर तक जाना पड़ेगा।

वाकई चहेते हैं मन
पब्लिक च्वाईस अवार्ड से नवाजे गए मन कुरैशी ने एक और लव स्टोरी में लवर व्बॉय के साथ-साथ कॉमेडी और एक्शन का भरपूर जलवा बिखेरा है। फिल्म देखकर निकले दर्शकों ने उनके किरदार की सराहना की है।

दम है देव के रोल में
नंदिनी (टिंवकल) के भाई का किरदार निभा रहे कीर्ति प्रकाश जायसवाल युवा नेता देव के किरदार में खूब जमे हैं। बचपन से हंसी-ठिठौली और जवानी में भी आदित्य के बराबर हमकदम बने देव ने अपने रोल के साथ पूरा न्याय किया।

कॉमेडी के साथ खलनायकी में बिच्छू सिंह का जवाब नहीं
फिल्म में बिच्छू सिंह के किरादर के साथ जाने-माने चरित्र अभिनेता पुष्पेन्द्र सिंह एक बार दर्शकों के बीच अपनी अलग ही छाप छोडऩे में कामयाब रहे। गांव के माहौल को बदलने में माहिर बिच्छू सिंह ने हेमलाल कौशल के साथ मिलकर दर्शकों को खूब हंसाया भी।

मां के किरदार में एक बार जान फूंक दी संजू और संगीता ने
मोर छईयां भुईयां में मां का किरदार निभाने वाली संजू साहू ने इस फिल्म में मन कुरैशी की मां का किरदार निभाया है। वहीं गायन की महारथी संगीता निषाद ने ट्विंकल की मां का रोल निभाया है। मां के किरदार की बात करें तो इस फिल्म में हालांकि संजू और संगीता का रोल ज्यादा नहीं रहा, फिर भी दोनों ने अपने किरदार में एक बार भी जान फूंकी है।

सीएम की भूमिका में खूब जमे पत्रकार रवि शुक्ला
फिल्म में सीएम के रोल में पत्रकार रवि शुक्ला खूब जमे हैं। रोल थोड़ा ही रहा, पर काफी मजबूत। और भी क्यों ना, मुख्यमंत्री का रोल जो था।

कॉमेडी किंग हेमलाल कौशल
फिल्म में कॉमेडी किंग हेमलाल कौशल आपको बहरे के रोल में मिलेंगे। यानी सुनते कुछ और हैं, और करते कुछ और ही। समझ गए ना। लेकिन संवाद अदायगी और कॉमेडी के रोल में उनका जवाब नहीं।

थोड़ा और बढ़ाना था अजय पटेल का रोल
अपनी फिटनेस को लेकर काफी एक्टिव रहने वाले अजय पटेल इस फिल्म में विलेन के किरदार में हैं। लेकिन हमें लगता है कि उनका रोल कुछ और बढ़ाना था। वैसे अजय पटेल को जितना भी रोल मिला, उसे उन्होंने बखूबी निभाया है। आपको बता दें कि अजय पटेल को हाल ही ससुराल के बेस्ट विलेन का अवार्ड मिला है।

गीत-संगीत
वैसे तो फिल्म में पांच गाने हैं, जो काफी कर्णप्रिय हैं। फिल्म के दो गाने पिया रे…जिया रे… और नैना ले नैना ले…पहले की काफी लोकप्रिय हो चुके हैं। वहीं संगीत की बात करें तो फिल्म में संगीत काफी मधुर है। फिल्म के दौरान कहीं ऐसा लगा ही नहीं कि संगीत पक्ष में कहीं खामी रह गई हो।

कुल मिलाकर देखा जाए तो फिल्म एक और लव स्टोरी में हर किरदार ने अपने रोल के साथ न्याय किया है। यदि आप मन कुरैशी के फैन हैं तो आप ये फिल्म जरूर देखें। क्योंकि लवर ब्वॉय का गांव वाला रूप, शहर वाली छवि, एक पति, एक जिम्मेदार बिजनेस और बाहरवाली को समझदारी से प्यार का मतलब समझाना, सभी कुछ अच्छा लगेगा। इसके साथ ही अभिनेत्री ट्विंकल ने भी अपनी अदाकारी और संवाद से तनिक भी यह अहसास नहीं होने दिया कि वो ओडि़शा की रहने वाली है।