गीतकार प्रकाश राजवाड़े को मिला “दादा साहेब फाल्के इंटर नेशनल अवार्ड”

गीतकार प्रकाश राजवाड़े

CGFilm.in ग्राम कनकी में जन्मे प्रकाश राजवाड़े शिक्षक सरैहानार कनकी, संकुल कथरिमाल, विकासखंड करतला को दादा साहेब फाल्के इंटरनेशनल अवार्ड फिल्म फाउंडेसन बड़ोदरा गुजरात द्वारा कोरोना वारियर अवार्ड प्रदान करते हुए प्रमाण पत्र प्रदान किया गया। इंटरनेशनल स्तर का यह प्रमाण पत्र समाज सेवा, एवं कोविड 19 में कोरोना वारियर्स, गीत संगीत के माध्यम से जनजागरूकता अभियान, शिक्षा के क्षेत्र उत्कृष्ट कार्य हेतु प्रदान किया गया, यह सम्मान ऑनलाइन दी गयी।

कोरबा आँचल के गीतकार प्रकाश राजवाड़े के सैकड़ो गाने रिलीज हो चुके है, जसगीत सम्राट दिलीप षड़ंगी जी ने , सुंदरी के मुंदरी, मस्त मस्त, झूम काँवरिया झूम कनकी धाम, झारा झारा नेवता, पहली घर के दाई, झोलटू राम के महामाई, अमर कथा में हरिश्चन्द्र तारामती, श्रवण कुमार, सती सावित्री, सती चांगुड़ा के दिलीप षड़ंगी जी ने अपने आवाजों से सुमधुर संगीत में पिरोया है। प्रकाश के गीतों को संजय सुरीला सरगुजा ने जस गीत दाई के अंगना, गजनी बैगा, कुदरगढ़ी दाई दे छप्पर फार के, आदि एलबम में गया है। कोरबा आँचल के गायक कृष्णा चौहान, धनसाय साहू , गणपत कौशिक, परदेसी सारथी, भजन गायक संजय नरडे, दिनेश सिंह, महाबीर सांडिल्य, जिसमे एलबम दाई के प्रसाद, काँवर वाला बड़ पॉवर वाला, जस गंगा, जेती माई ओती साई, जस अमृत, दाई के अँगना, आना दाई आना दाई, अँगना म आजा महामाई, सहित ,कई एलबम में राजवाड़े जी ने गीत लिखे है।