जोहार छत्तीसगढ़ के लिए देेवेन्द्र को मिला बेस्ट डेब्यू डायरेक्टर का अवार्ड

CGFilm.in गुरुवार को नवा रायपुर स्थित एक आडिटोरियम में गुरुवार को स्मार्ट सिनेमा अवार्ड समारोह का आयोजन किया गया। यह आयोजन छत्तीसगढ़ी फिल्म के भीष्म पितामह स्व. विजय कुमार पांडेय निर्माता ऐतिहासिक छत्तीसगढ़ी फिल्म घर-द्वार 1965, 78वीं जयंती के अवसर पर किया गया। स्मार्ट सिनेमा अवार्ड में जोहार छत्तीसगढ़ के लिए देेवेन्द्र को बेस्ट डेब्यू डायरेक्टर का अवार्ड मिला है। आपको बता दें कि जोहार छत्तीसगढ़ 31 जनवरी, 2020 को रिलीज हुई। ये फिल्म पूरे प्रदेश के लगभग 15 से अधिक सिनेमाघरों में रिलीज हुई थी। वहीं रायपुर के श्याम टॉकीज की बात करें तो यहां फिल्म देखने बड़ी संख्या में दर्शक पहुंचे थे। पूरा टॉकीज हाउसफुल रहा। वहीं फिल्म देखने निकले दर्शकों ने फिल्म और फिल्म के किरदारों के साथ ही दमदार डॉयलॉग और जोरदार एक्शन की जमकर तारीफ की। कईयों ने तो फिल्म की कहानी को बिल्कुल नया और बहुत ही अच्छा बताई। कुछ दर्शकों ने कहा कि छत्तीसगढिय़ों के साथ हुए अन्याय और शोषण के खिलाफ आवाज उठाती ये फिल्म सुपरहिट होगी।


जैसा कि हम पहले ही बता चुके हैं छत्तीसगढिय़ों के साथ हो रहे शोषण और अन्याय के खिलाफ आवाज उठाती ये फिल्म दर्शकों को जरूर पसंद आएगी। पूरी फिल्म इसी के ईर्द-गिर्द घूमती नजर आती है। फिल्म में रोमांस और कॉमेडी का तकड़ा भी खूब है, लेकिन फिल्म के दमदार डॉयलॉग और जोरदार एक्शन दर्शकों को अंत तक बांधे रखते हैं। खासकर, जुल-मिल के करबो संगी अपन काम काज ला… छत्तीसगढिय़ा मन चलाबे छत्तीसगढ़ के राज… जैसे डॉयलॉग दर्शकों को खूब पसंद आए। फिल्म में हीरो अर्जुन ठाकुर (देवेन्द्र जांगड़े) और राजा ठाकुर (राज साहू) की जब एंट्री होती है तो पूरा हाल तालियों की गडगड़़ाहट से गूंज उठता है। ठीक इसी तरह फिल्म की अभिनेत्री शिखा चिताम्बरे और सोनाली सहारे ने भी अपने-अपने किरदार को बखूबी निभाया है। फिल्म की कहानी की शुरूआत कॉमेडी से ही होती है। फिर घर-परिवार, कॉलेज रोमांस के साथ धीरे-धीरे आगे बढ़ती जाती है। फिल्म में गानों की बात करें तो इसकी सभी गाने काफी मधुर और कर्णप्रिय हैं।