दयाशंकर की डायरी…

CGFilm – छत्तीसगढ़ी में इन दिनों लगातार छ: दिन एक मोनो प्ले चल रहा है। किसी नाटक के रोज दो शो संभवतः रायपुर में यह पहली बार हो रहा है। लगातार इतने दिनों तक शो करने का विचार तभी हो सकता है, जब नाटक करने वालों को अपने काम के प्रति विश्वास हो। यह इस प्ले देखते हुए साबित होता है। प्ले एकदम पानी की तरह बहता रहता है और अपने साथ दर्शकों को भी गोते लगवाता है।

इस प्ले को देखना एक अद्भुत अकल्पनीय और रोमाँचित कर देने वाली यात्रा से गुजरना है। रवि के एकटिंग टेलेन्ट को नमन योग भैया आप तो हमेशा से सिद्ध हस्त हैं. निर्देशकीय पकड़, दृश्य संयोजन, रंग प्रस्तुति में पार्शव संगीत का अद्भुत मिश्रण और एक्टिंग के तीव्र प्रावह को जैसे कुशल ड्रायव्हर ब्रेक लगाता है वैसे नाम मात्र की एक्टिंग करवाने की बेजोड़ कला… धन्य है भैया आप और सौभाग्यशाली है, रवि की एक्टिंग जैसे बरसाती नदी अपनी मदमस्त चाल में झूम के निकल पड़ी हो, योग भैया का डायरेक्शन जैसे सूरज अपने ताप से फूल को खिलाने का.
दयाशंकर की पीड़ा, संत्रास, दुख और घनघोर अवसाद जो उसे पागलखाने तक पहुँचने को विवश कर देती है. हम सब के भीतर कहीं न कहीं एक दयाशंकर है.
निर्देशक – योग मिश्र
कलाकार – रवि शर्मा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *